पश्चिमी चम्पारणबिहार

पवन घंटा के अंदर ही जच्चा और बच्चा के अस्पताल से डिस्चार्ज करने के मामले को लेकर प्रसूति के घर पहुंची एसडीओ।

मैनाटांड़(प.च)।

विगत 3 दिसंबर को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से प्रसव उपरांत पवन घंटा के अंदर ही जच्चा और बच्चा के अस्पताल से डिस्चार्ज करने के मामले को एसडीओ श्रीमती साहिला ने गंभीरता से लिया है। शनिवार के दिन एसडीओ ने पकुहवा, तिलंगही बहुअरवा और पिड़ारी गांव जाकर प्रसूति महिलाओं से बातचीत किया। बातचीत के दौरान प्रसूति महिला एवं अभिभावकों के द्वारा बताया गया कि प्रसव के दौरान बाहर से दवा खरीदा गया है ।दवा अस्पताल से नहीं मुहैया कराया जा सका।साथ ही आशा कार्यकर्ता के द्वारा भुगतान के बारे में कोई कार्रवाई नहीं की गई है ।वहीं आशा कार्यकर्ता के द्वारा मात्र चौदह सौ रूपये लाभ देने की बात कही गई है। प्रसव के उपरांत पवन घंटे के बाद ही अस्पताल से छुट्टी मिलने के बारे में भी एसडीओ ने प्रसूति महिलाओं से आवश्यक जानकारी लिया। साथी से मौजूद स्वास्थ्य अधिकारियों को बताया कि यह गंभीर लापरवाही है कि मात्र पवन घंटे में ही अस्पताल से प्रसूति महिला को डिस्चार्ज कर दिया गया है ।उन्होंने बताया कि इस अनियमितता की रिपोर्ट जिले के वरीय अधिकारियों को मेरे द्वारा सौंपा जायेगा। मौके पर बीडीओ राजकिशोर प्रसाद शर्मा अंचलाधिकारी कुमार राजीव रंजन सडीओ को स्टेनो जावेद हुसैन ,बीसीएम अनिल कुमार सहायक रामायण उरांव आदि मौजूद रहे।