पश्चिमी चम्पारणबिहार

नल जल योजना में काम कर रहे बाल मजदूर, अधिकारी बेफिक्र।

,मैनाटांड़ (प.च)।

मुख्यमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट सात निश्चय योजना अंतर्गत किस तरह बाल मजदूरों से काम कराया जा रहा है इसकी बानगी देखनी है तो मैंनाटाड़ प्रखंड मुख्यालय से सटे रमपुरवा सात आना गांव वार्ड नंबर 6 में आकर देखा जा सकता है। सोमवार के अहले सुबह पाइप बिछाने के लिए लगभग दस पंद्रह मजदूर मिट्टी खोदाई का काम कर रहे थे।जिसमें से अधिकांश की उम्र 18 वर्ष से कम है। यह सभी बाल मजदूर संवेदक ने मुजफ्फर और सीतामढ़ी से लाकर काम करा रहा है ।बाहरी मजदूर के आने से स्थानीय लोगों में आक्रोश भी है और आक्रोश के साथ-साथ बाल मजदूरी कराने का मलाल भी ।उल्लेखनीय है कि बाल मजदूरी पर सरकार के द्वारा रोक है ।उसके बावजूद भी नल जल जैसे महत्वपूर्ण योजना में बाल मजदूरी से संवेदक द्वारा काम कराया जा रहा है ।वहीं इसकी शिकायत बीडीओ राजकिशोर प्रसाद शर्मा से की गयी। वहीं बीडीओ ने कहा कि किसी भी काम में बाल मजदूरों से काम करना अपराध है। इसकी जांच कर उचित कार्रवाई की जायेगी।