पश्चिमी चम्पारणबिहार

नहाय खाय के साथ छठ पर्व की हुई शुरुआत।

,गौनाहा(प.च)।

प्रखंड में लोक आस्था के महापर्व छठ के चार दिवसीय अनुष्ठान की शुरुआत बुधवार से नहाय-खाय के साथ शुरू हो गया। निर्जला अनुष्ठान के पहले दिन बुधवार को व्रती घर, नदी, तालाबों आदि में स्नान कर अरवा चावल, चने की दाल और कद्दू की सब्जी का प्रसाद ग्रहण किया। वही 19 नवंबर को व्रती खरना करेंगे।

इस दिन व्रती दिनभर निर्जला उपवास रखने के बाद शाम को दूध और गुड़ से बनी खीर का प्रसाद खाकर चांद को अर्घ्य देंगे और लगभग 36 घंटे का निर्जला व्रत उपवास शुरू करेंगे। 20 नवंबर को व्रती डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य देंगे और 21 नवंबर को उदयीमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ महाव्रत संपन्न करेंगे। सूर्य को अर्घ्य देने के बाद प्रसाद वितरण करेंगे और अन्न-जल ग्रहण कर चार दिवसीय अनुष्ठान समाप्त करेंगे। व्रत को लेकर व्रती ठेकुआ पकवान बनाते है यह पकवान संपूर्ण पूजा का मुख्य प्रसाद होता है। नारियल, केला, निंबू, ईख और ऋतुफल का भी प्रसाद तैयार किया जात है। सायंकालीन अर्घ्य दिया जाता है।